Tag Archives: deflation

What is inflation? Causes & Types of inflation?

Inflation:-

Inflation types & causes

In economics, inflation (or less frequently, price inflation) is a general rise in the price level of an economy over a period of time.  When the general price level rises, each unit of currency buys fewer goods and services;  Consequently, inflation increases a reduction in the purchasing power per unit of the money.

Cause of inflation:-

Cost push:- When the inputs of production become expensive such as land, salary, labor, it affects inflation and the product produced starts to become expensive.

Demand pull:- Demand and supply gap increases due to which inflation arises.

Factor affecting Demand:-

– Increase in money supply:- When people have more amount of money then it increases inflation because people have more money and do not buy more, which generates more demand which leads to inflation.

Increase in residual income:- Increase in this increases the expenditure on household goods.

Cheap currency policy:- By adopting cheap currency policy, the interest rate is kept low due to which people take more and more loans and people get more money and they use that money in shopping which creates demand in the economy.  it occurs.

Increasing public spending:- This leads to a deficit budget so that the money reaches people and demand is created again in the economy.

Lending back to the people, this brings money to the people and demand is generated in the economy so that inflation can be dealt with.

Factor Affecting Supply:-

– Lack of production factors: – This increases the cost of production and causes inflation.

– Industrial fights

– natural disasters

– Increase in exports: – This reduces domestic demand

– International factors such as increase in the price of oil

Types of Inflation:-

1. Creeping / low inflation- Here inflation is between 0% – 3% which is both important and safe for economic prosperity.

2. Walking & trotting inflation- Now inflation has increased from 3% to 7% which is a concern for any economy and the government looks for ways to reduce it.

3. Rapid inflation- here there is a rapid price rise, inflation increases from 10% to 20%.

4. Hyperinflation / Runaway / Galloping inflation- Here inflation is at its highest level which is more than 20%.

Influence of inflation:-

Loss to the debtor – The person who has borrowed at the time of inflation has a loss.

Benefit to the creditor – The person who lends at the time of inflation benefits.

Benefit to the producer – At the time of inflation, the quantity of the commodity is less and its mother is more, which increases the value of that commodity, it benefits the producers.

Loss to consumers – During inflation, people have to pay a higher price while buying the goods, which causes it to lose.

Benefits to bond issuers

Loss to bond holders

Profit to Equity Holder

Effect on production and consumption:-

– Due to the high price, the demand will be reduced, the quantity of its production will also decrease.

– Producers will decrease quality and quantity to maintain the same value

– Both production and consumption will suffer

Other effects:-

– If the balance of payment value decreases, then the export will increase and if the price falls, the import will increase.

– Exchange rate exports less imports, this will increase demand for foreign currency and depreciation of domestic currency.

Control over inflation:-

On demand side:-

– To control the money supply, the monetary measures adopted by the RBI to reduce the money if the money supply in the market is high and if there is a shortage of money in the market then increase the money supply, thereby controlling inflation  is done.

– Determining the price of a product

– Demonetisation of currency which will cause shortage of funds

– Issue of new currency which will reduce the value of old currency

Fiscal Measures:-

– Reduce unnecessary expenditure

– Increase in direct taxes

– Reduction in indirect taxes

– Reduction in government expenditure, especially revenue

– Increase in loan interest rates

Other terminology related to inflation: –

1. Deflation (contraction): – It is also called negative inflation in which the value keeps falling continuously.

2. Disinflation:- Inflation falls as if inflation increases but it reduces the rate of inflation.

3. Inflationary Gap:- Government spending above national income is also known as Fiscal Deficit.  As the income is ₹ 100 and expenses are ₹ 120, then we have to take ₹ 20 from other sources which leads to Fiscal deficit.

4. Deflationary Gap:- National income is high and the total expenditure of the government decreases, it is also called fiscal surplus.  (Income ₹ 100 and expenses ₹ 88)

5. Inflation Spiral:- The salary increases the price and the price increases the salary. If the salary increases then the income tax falls in the tax basket, after that, after paying tax, we will spend the same as what we used to do earlier.

6. Reflation:- In order to reduce unemployment, the situation created by the government to increase demand to go to higher level of economic development.  The government which takes other steps by deflation is called reflation to raise demand.

7. Stagflation:- When high inflation and high unemployment arise in the economy, it is called stagflation.

8. Skewflation:- When inflation comes in some category of goods and services in the economy, it is called Skewflation.

9. Bottleneck Inflation:- If there is a huge drop in supply in the economy and demand remains the same, then the problem of Bottleneck inflation arises.

10. Structural inflation:- It occurs widely in developing countries.  Causes of structural defects: –

– such as supply interruption

– Now lack of infrastructure

– Keeping MSP stable and variable price for some crops under MSP

– Problems such as hoarding etc. arising from the AMPC Act in the state.

11. Deflatory GDP:- The ratio between GDP at constant prices and GDP at current prices is called GDP deflator. This ratio arises due to inflation.

12. Filiph curve:- Relationship B/W inflation and unimployment.

Difference between core inflation and headline inflation:-

1. Core Inflation:-

All the objects are counted in it.

Except Food and Fuel.  Because the value of these things is very variable.

The core inflation remains constant after removing these objects.

2. Headline inflation:-

After the inclusion of food and fuel it is calculated by including all the items.

This CPI remains combined.

It is highly volatile and unstable.

1. If deflation continue in the economy that called slowdown in the economy.

2. If slowdown is continue for 3 quarters then we face recession in the economy.

3. If recession continues in the economy then the economy goes in depression.

मंहगाई :- अर्थशास्त्र में, मुद्रास्फीति (या कम बार, मूल्य मुद्रास्फीति) समय की अवधि में अर्थव्यवस्था के मूल्य स्तर में सामान्य वृद्धि है।  जब सामान्य मूल्य स्तर बढ़ता है, तो मुद्रा की प्रत्येक इकाई कम सामान और सेवाएं खरीदती है;  नतीजतन, मुद्रास्फीति पैसे की प्रति यूनिट क्रय शक्ति में कमी को दर्शाती है।

महंगाई के कारण:-

Cost push:- जब उत्पादन के आगत महंगे हो जाते हैं जैसे भूमि, वेतन, लेबर, उसका प्रभाव महंगाई पर पड़ता है और जो प्रोडक्ट उत्पादित होता है वह महंगा होने लगता है।

Demand pull:- डिमांड और सप्लाई का गेप बढ़ जाता है जिससे महंगाई उत्पन्न हो जाती है

Factor affecting Demand:-

धन की आपूर्ति में वृद्धि:- जब लोगों के पास अधिक मात्रा में धन आता है तो इससे महंगाई बढ़ती है क्योंकि लोगों के पास अधिक पैसा होता है और अधिक खरीदारी नहीं करते जिससे डिमांड अधिक उत्पन्न हो जाती है जो कि महंगाई को जन्म देती है

– अवशिष्ट आय में वृद्धि:- इसमें वृद्धि होने से घरेलू वस्तु पर होने वाले खर्च में वृद्धि होती है

– सस्ती मुद्रा नीति:- सस्ती मुद्रा नीति अपनाने से ब्याज दर निम्न रखी जाती है जिससे लोग अधिक से अधिक ऋण लेते हैं और लोगों के पास अधिक पैसा पहुंच जाता है और वह उस पैसे का प्रयोग खरीदारी में करने लगते हैं जिससे डिमांड अर्थव्यवस्था में पैदा होती है।

– सार्वजनिक खर्च बढ़ाना:- इससे डिफिसिट बजट होता है ताकि लोगों के पास पैसा पहुंचे और अर्थव्यवस्था में पुनः मांग पैदा की जाए।

– लोगों का उधार वापस देना इससे लोगों के पास पैसा आ जाता है और अर्थव्यवस्था में मांग उत्पन्न की जाती है ताकि महंगाई से निपटा जा सके।

Factor Affecting Supply :-

उत्पादन के कारको की कमी होना:- इससे उत्पादन लागत बढ़ जाती है और महंगाई उत्पन्न हो जाती है

– औद्योगिक झगड़े

– प्राकृतिक आपदाएं

– निर्यात में वृद्धि :- इससे घरेलू मांग में कमी आ जाती है

– अंतरराष्ट्रीय कारक जैसे तेल के मूल्य में वृद्धि होना

Types of Inflation:-

1. Creeping/low inflation- यहां पर महंगाई 0% – 3% के बीच होती है जो कि आर्थिक समृद्धि के लिए महत्वपूर्ण भी है और सुरक्षित भी है।

2. Walking & trotting inflation- अब यहां पर महंगाई बढ़ कर 3% से 7% हो चुकी है जो कि किसी भी अर्थव्यवस्था के लिए चिंता का विषय है और सरकार इसे कम करने के लिए उपाय ढूंढती है।

3. Rapid inflation- यहां पर तीव्र गति से मूल्य में वृद्धि होती है 10% से 20% तक महंगाई बढ़ जाती है

4. Hyperinflation / Runaway / Galloping inflation- यहां पर महंगाई अपने उच्चतम स्तर पर होती है जो कि 20% से भी अधिक होती है

मुद्रास्फीति के प्रभाव:-

– देनदार को हानि– मुद्रास्फीति के समय जिसने उधार लिया होता है उसको हानि होती है।

– लेनदार को लाभ- मुद्रास्फीति के समय जिसने उधार दिया जाता है उसे लाभ होता है।

– उत्पादक को लाभ– मुद्रास्फीति के समय वस्तु की मात्रा कम होती है और उसकी मां अधिक होती जिससे उस वस्तु का मूल्य अधिक हो जाता है इसका लाभ उत्पादकों को होता है।

– उपभोक्ताओं को हानि– मुद्रास्फीति के समय लोगों को वस्तु को खरीदते समय ज्यादा कीमत अदा करनी होती है जिससे उसे हानि होती है।

बांड जारी करने वालों को लाभ।

बांड धारको को हानि

इक्विटी धारक को लाभ।

उत्पादन और खपत पर प्रभाव :-

-कीमत अधिक होने से मांग कम होगी उसके उत्पादन की मात्रा में भी कमी आएगी

-उत्पादक समान मूल्य बनाए रखने के लिए क्वालिटी और क्वांटिटी में कमी करेंगे

-उत्पादन और उपभोग दोनों को हानि होगी

अन्य प्रभाव:-

बैलेंस ऑफ पेमेंट मूल्य में कमी आएगी तो निर्यात बढ़ेगा और मूल्य में गिरावट आएगी तो आयात बढ़ेगा

एक्सचेंज रेट एक्सपोर्ट कम इंपोर्ट अधिक इससे विदेशी मुद्रा की डिमांड बढ़ेगी और घरेलू मुद्रा का अवमूल्यन होगा

महंगाई पर नियंत्रण:-

मांग की ओर:-

मुद्रा आपूर्ति पर नियंत्रण करना इसके लिए मौद्रिक उपाय जिसे आरबीआई (RBI) द्वारा अपनाया जाता है अगर बाजार में धन की आपूर्ति अधिक है तो मुद्रा को कम करना और अगर बाजार में धन की कमी है तो धन की आपूर्ति को बढ़ाना इससे महंगाई पर नियंत्रण आरबीआई के द्वारा किया जाता है।

– किसी प्रोडक्ट का मूल्य निश्चित करना

– मुद्रा का विमुद्रीकरण करना जिससे धन की कमी होगी

– नई मुद्रा जारी करना जिससे पुरानी मुद्रा की वैल्यू कम हो जाएगी

राजकोषीय उपाय:-

– अनावश्यक व्यय कम करना

– प्रत्यक्ष करों में वृद्धि करना

-अप्रत्यक्ष करों में कमी करना

– सरकारी व्यय में कमी करना खासकर राजस्व

– ऋण की ब्याज दरों में वृद्धि करना

महंगाई से संबंधित अन्य शब्दावली:-

1. Deflation (संकुचन):- इसे नकारात्मक इन्फ्लेशन भी कहते हैं इसमें लगातार मूल्य गिरता रहता है।

2. Disinflation:- इसमें महंगाई की दर गिरती है जैसे इसमें महंगाई तो बढ़ती है लेकिन महंगाई बढ़ने की दर कम हो जाती है

3. Inflationary Gap:- राष्ट्रीय आय से ऊपर सरकारी खर्च होना इसे Fiscal Deficit भी कहते हैं। जैसे आय ₹100 है और खर्च ₹120 कर रहे हैं तो ₹20 हमें अन्य स्त्रोत से लेने होते हैं जिससे Fiscal deficit आ जाता है।

4. Deflationary Gap:- राष्ट्रीय आय ज्यादा हो और सरकार की कुल खर्च में कमी आ जाती है इसे fiscal surplus भी कहते हैं। (आय ₹100 और खर्च ₹88)

5. Inflation Spiral:- वेतन प्राइस को बढ़ाते हैं और प्राइस वेतन को बढ़ाती है अगर वेतन बढ़ता है तो इनकम टैक्स टैक्स बास्केट में आ जाते हैं उसके बाद टैक्स देकर फिर उतना ही खर्च करेंगे जितना हम पहले क्या करते थे

6. Reflation:- बेरोजगारी कम करने के लिए गवर्नमेंट द्वारा जानबूझ कर बनाए गए हालात आर्थिक विकास के उच्च स्तर पर जाने हेतु मांग में वृद्धि करवाना। डिफ्लेशन से जो गवर्नमेंट अन्य कदम उठाती है डिमांड को ऊपर उठाने के लिए उसे रिफ्लेशन कहते हैं

7. Stagflation:- जब अर्थव्यवस्था में उच्च महंगाई और उच्च बेरोजगारी उत्पन्न हो उसे स्टैगफ्लेशन कहते हैं।

8. Skewflation:- जब अर्थव्यवस्था में वस्तुओं और सेवाओं की कुछ श्रेणी में महंगाई आ जाती है तो उसे Skewflation कहा जाता है।

9. Bottleneck Inflation:- अगर अर्थव्यवस्था में आपूर्ति में भारी गिरावट और मांग समान बनी रहे तो इससे Bottleneck inflation की समस्या उत्पन्न होती है।

10. Structural inflation (संरचनात्मक मुद्रास्फीति):- यह व्यापक रूप से विकासशील देशों में उत्पन्न होती है। संरचनात्मक दोषों के कारण:-

– जैसे आपूर्ति में रुकावट आना

– अबसंरचना की कमी

– MSP के तहत कुछ फसलों के लिए स्थिर और कुछ के लिए परिवर्तनशील मूल्य रखना

– राज्य में AMPC एक्ट से जमाखोरी इत्यादि जैसी समस्या उत्पन्न होना।

11.Deflatory GDP:- कांस्टेंट मूल्यों पर जीडीपी और वर्तमान मूल्यों पर जीडीपी के बीच का अनुपात जीडीपी डिफ्लेटर कहलाता है यह अनुपात इन्फ्लेशन के कारण पैदा होता है

12. Filiph curve:- रिलेशनशिप B/W इन्फ्लेशन एंड अनइंप्लॉयमेंट।

कोर इन्फ्लेशन और हैडलाइन इन्फ्लेशन में अंतर:-

1. कोर इन्फ्लेशन:-

इसमें सभी वस्तु की गणना की जाती है ।

Except Food and Fuel. क्योंकि इन वस्तु का मूल्य बहुत परिवर्तनशील होता है।

इन वस्तु को निकालने के पश्चात कोर इन्फ्लेशन काफी हद तक है कांस्टेंट रहता है।

2. हैडलाइन इन्फ्लेशन:-

Food and fuel को शामिल करने के पश्चात सभी वस्तुओं को शामिल करके गणना की जाती है।

यह CPI combined रहता है।

यह अत्यधिक परिवर्तन से और अस्थिर है।